Followers

Friday, July 19, 2013

INSAAN NE BHAGWAN KO HI ZAHAR DE DIYA... / इंसान ने भगवान को ही ज़हर दे दिया …



Aaj budi-ma apni badi si steel ki thali liye school ke bahar se hi lout aayi , bina kuchh khaye hi.Lagbhag adhe ghante tak school ke gate par intezar karne ke baad muh latkaye wapas aa gayi. Dhoop bhi bohat tez thi. Rasoighar mein do char aloo pade the, so chawal ke saath unhe bhi ubal liya aur namak - mirch ke sath usi se dopahar ka bhojan kiya. Fir apna kaam nibta kar sone chali gayi. bachche sham ko hi lout-te hain so aram se neem ki thandi chaon tale so gayi. Sham ko bachche loute to kuch poochti isse pahle hi dono fir se basta utha kar tuition padhne chale gaye. Unki ma unhe paise dekar jati thi taki sham ko bhookh lage to kuchh khareed kar kha sakein. Raat ko parishrant bachche loutte hi khana mangne lage ,aur khate hi seedhe bistar par.

Thodi der baad bablu bistar se utar kar aya aur budi-ma ke paas aakar baith gaya. Budi-ma udaas thi ki gusse mein samajhne ki koshish kar raha tha. chuppi ko todte hue budi-ma ne poocha "kyon, kyon nahin ayah tu aj khana dene?" pata hai kitni der tak main dhoop mei khadi ti?" bablu bina kuchh bole apni ma ke paas gaya aur buri-ma ki thali mein roti sabji paroskar use manane laga. samajh nahin pa raha tha kaise bataye use sab kuchh.

Darasal baat kuchh aisi hai, bablu aur sunaina ke school mein muft mein dopahar ka khana diya jata hai. Ya yoon kahein ki zyada se zyada bachche jinke ma-baap gareebi ke karan unhe school nahin bhej paate hain ,unhe kam se kam buniyadi shiksha prapt karwayi ja sake isi uddeshya se 'free mid-day meal' ki yojna sare desh mein lagu ki gayi . Is desh mein sachmuch kuchh itne gareeb hain jinke liye ek waqt ka khana bohat maine rakhta hai.




Bablu aur sunaina bhi aise hi gareeb bachhe hain. sunaina ko jo bhi milta hai khush rahti hai par bablu , gareeb hai to kya, khana wahi khayga jo use pasand ho.School mein to use ek sabji , dal(jise dal kam ,paani zyada bola ja sakta hai) aur chawal hi diya jata tha, jo use beswad lagta tha.ek din usne baingan mein ek keeda dekh liya tha ,bas phir kya tha, zid pe ara raha ki ghar se ya to khana lekar jayga ya paise. Usne hi budi- ma se kaha tha ki dopahar ko thali lekar a jaya kare woh apne hisse ka khana use de diya karega. Apna khana wo dukaan se khareed kar khata tha. aaj bhookhi budi- ma ka gussa hona lajmi tha par bablu ne jab kaaran bataya to budi-ma stabdh rah gayi.

Aaj subah school pohanchte hi dono bhai bahan ne dekha ki kuchh log gate ke bahar dharna diye baithe hain. Paas jakar dekha to usme unke sahpathiyon ke mata -pita bhi the. nara laga rahe the ki school ka store room aur rasoighar unhe turant dikhaya jaye. Darwan ne bachchon se kaha ki andar jakar prarthna ki line mein khade ho jayein au abhibhavakon ko wahin gate par intezar karne ke liye kaha. Bachche chupchap apni apni kaksha ki or chale gaye.




Dopahar ko jab ghanti baji to daudkar sare bachche apni apni thali lekar rasoi ke saamne khade ho gaye par ek adh minute baad hi phir se chillane ki awaz ane lagi. Maang kuchh aisi thi ki shikshakoN ko bhi wahi khana khana padega, wo bhi bachchon se pahle. Aathwin class ke bachche kuch bachchon ki maut ke bare mein baat kar rahe the. Bablu hari dada ke paas gaya aur poochne par pata chala ki teen char din pahle Bihar mein 'mid-day meal' khane se 23 bachchon ki maut ho gayi hai aur kuchh peedhit bachche aspataal mein abhi bhi maut se joojh rahe hain.aag ki tarah ye khabar vidyarthyon ke beech fail gayi aur bas bachchon ne bhi khana khane se mana kar diya.

Bhayi gareeb hain ,magar hain toh insaan hi na. inke parivaar walon ke paas toh inke jeevan ka mol hai. Khane ka lalach dekar shikshit karne ki yojna hai ki is yojna ki aad mein apni jebein thoosne ka?
Aur kitna neeche girega insaan? bachche toh bhagwan ka roop hote hain, unki jaan lekar kya ye gunahgaar khush rah payenge? Aur bhagwan toh jaise lapata hi ho gaye hain. shayad insaan ne zahar dekar unhe bhi maar dala hai, ab woh chirnidra mein leen ho gaye hain aur sansaar ki chabi thama di hai apni hi srishti, is insaan ke hathon. Jante hain sarvapratham woh tijori se anmol  ratan hi churayga, aur kharch karte karte ek aisa din ayega jab woh kangal ho jayega . Phir se bhikshu ban isi bhagwan ke samne gidgidayga . Par tab ? Kya bhagwan todenge apni samadhi?

Khair, is Bablu ke parivar ki tarah kai aise parivar hain jo gareeb hain,ya  gareebi rekha ke niche rahte hain. Ab ya toh ye log school se bachchon ka nam katwa denge, ya phir se nazar ane lagenge ye nanhe munne 14 saal se kam umra ke mazdoor. Budi-ma bhi ab rukha sukha kha kar apni bachi khuchi zindagi guzaar legi.



Sarkar aise khooniyon ka kuchh karegi bhi ki nahin ye ham me se kisi ko nahin pataa  .Ye ghatana bhi ek 'khabar' bankar do char dinoN tak TV par chhayi rahegi aur phir gumnam ho jayegi.

Pahle se hi gareeb, apne bachchon ko khone ke baad ab toh aur bhi gareeb ho gaye hain.

(pic-google)




 आज बूढ़ी-मा अपनी बड़ी सी स्टील की थाली लिए स्कूल के बाहर से ही लौट आई , बिना कुछ खाए ही.लगभग आधे घंटे तक स्कूल के गेट पर इंतज़ार करने के बाद मुँह लटकाए वापस आ गयी. धूप भी बहुत तेज़ थी. रसोईघर में दो चार आलू पड़े थे, सो चावल के साथ उन्हें भी उबाल लिया और नमक - मिर्च के साथ उसी से दोपहर का भोजन किया. फिर अपना काम निबटा कर सोने चली गयी. बच्चे शाम को ही लौटते हैं  सो आराम से नीम की ठंडी छाँव तले सो गयी. शाम को बच्चे लौटे तो कुछ पूछती इससे पहले ही दोनो फिर से बस्ता उठा कर ट्यूशन पढ़ने चले गये. उनकी माँ उन्हें पैसे देकर जाती थी ताकि शाम को भूख लगे तो कुछ खरीद कर खा सकें. रात को परिश्रांत बच्चे लौटते ही खाना माँगने लगे ,और खाते ही सीधे बिस्तर पर.

थोड़ी देर बाद बबलू बिस्तर से उतर कर आया और बूढ़ी-माँ के पास आकर बैठ गया. बूढ़ी-माँ उदास थी की गुस्से में, समझने की कोशिश कर रहा था. चुप्पी को तोड़ते हुए बूढ़ी-माँ ने पूछा "क्यों, क्यों नहीं आया तू आज खाना देने? पता है कितनी देर तक मैं धूप में खड़ी थी ?" बबलू बिना कुछ बोले अपनी माँ के पास गया और बूढ़ी-माँ की थाली में रोटी सब्जी परोसकर उसे मनाने लगा. समझ नहीं पा रहा था कैसे बताए उसे सब कुछ .

दरअसल बात कुछ ऐसी है, बबलू और सुनैना के स्कूल में मुफ़्त में दोपहर का खाना दिया जाता है. या यूँ कहें कि ज़्यादा से ज़्यादा बच्चे जिनके माँ -बाप ग़रीबी के कारण उन्हे स्कूल नहीं भेज पाते  हैं ,उन्हे कम से कम बुनियादी शिक्षा प्राप्त करवाई जा सके इसी उद्देश्य से 'फ्री मिड-डे मील ' की योजना सारे देश में लागू की गयी  .. इस देश में सचमुच कुछ इतने ग़रीब हैं जिनके लिए एक वक़्त का खाना बहुत मायने रखता है.



बबलू और सुनैना भी ऐसे ही ग़रीब बच्चे हैं. सुनैना को जो भी मिलता है खुश रहती है पर बबलू , ग़रीब है तो क्या, खाना वही खेयगा जो उसे पसंद हो.स्कूल में तो उसे एक सब्जी , दाल(जिसे दाल कम ,पानी ज़्यादा बोला जा सकता है) और चावल ही दिया जाता था, जो उसे बेस्वाद लगता था.एक दिन उसने बैंगन में एक कीड़ा देख लिया था ,बस फिर क्या था, ज़िद पे अड़ा रहा की घर से या तो खाना लेकर जायगा या पैसे. उसने ही बूढी-माँ  से कहा था की दोपहर को थाली लेकर आ जाया करे,  वो अपने हिस्से का खाना उसे दे दिया करेगा. अपना खाना वो दुकान से खरीद कर ख़ाता था. आज भूखी बूढ़ी-माँ का गुस्सा होना लाजमी था पर बबलू ने जब कारण बताया तो बूढ़ी-माँ स्तब्ध रह गयी.

आज सुबह स्कूल पहुँचते ही दोनो भाई बहन ने देखा की कुछ लोग गेट के बाहर धरना दिए बैठे हैं. पास जाकर देखा तो उसमे उनके सहपाठियों के माता -पिता भी थे. नारा लगा रहे थे की स्कूल का स्टोर रूम और रसोईघर उन्हे तुरंत दिखाया जाए. दरवान ने बच्चों से कहा की अंदर जाकर प्रार्थना की लाइन में खड़े हो जायें और अभिभावकों को वहीं गेट पर इंतज़ार करने के लिए कहा. बच्चे चुपचाप अपनी अपनी कक्षा की ओर चले गये.



दोपहर को जब घंटी बजी तो दौड़कर सारे बच्चे अपनी अपनी थाली लेकर रसोई के सामने खड़े हो गये पर एक-आध मिनट बाद ही फिर से चिल्लाने की आवाज़ आने लगी. माँग कुछ ऐसी थी कि शिक्षकों को भी वही खाना खाना पड़ेगा, वो भी बच्चों से पहले. आठवीं क्लास के बच्चे कुछ बच्चों की मौत के बारे में बात कर रहे थे. बबलू हरी दादा के पास गया और पूछने पर पता चला की तीन चार दिन  पहले बिहार में 'मिड-दे मील' खाने से 23 बच्चों की मौत हो गयी है और कुछ पीड़ित बच्चे अस्पताल में अभी भी मौत से जूझ रहे हैं.
आग की तरह ये खबर विद्यार्थियों के बीच फैल गयी और बस बच्चों ने भी खाना खाने से मना कर दिया.

भई ग़रीब हैं ,मगर हैं तो इंसान ही ना. इनके परिवार वालों के पास तो इनके जीवन का मोल है. खाने का लालच देकर शिक्षित करने की योजना है की इस योजना की आड़ में अपनी जेबें ठूँसने का? और कितना नीचे गिरेगा इंसान? बच्चे तो भगवान का रूप होते हैं, उनकी जान लेकर क्या ये गुनहगार खुश रह और भगवान तो जैसे लापता ही हो गये हैं. शायद इंसान ने ज़हर देकर उन्हे भी मार डाला है, अब वो चिरनिद्रा में लीन हो गये हैं और संसार की चाबी थमा दी है अपनी ही सृष्टि, इस इंसान के हाथों. जानते हैं सर्वप्रथम वो तिजोरी से अनमोल  रतन ही चुरायगा, और खर्च करते करते एक ऐसा दिन आएगा जब वो कंगाल हो जाएगा . फिर से भिक्षु बन इसी भगवान के सामने गिड़गिड़ायेगा . पर तब ? क्या भगवान तोड़ेंगे अपनी समाधी?

खैर, इस बबलू के परिवार की तरह कई ऐसे परिवार हैं जो ग़रीब हैं,या ग़रीबी रेखा के नीचे रहते हैं. अब या तो ये लोग स्कूल से बच्चों का नाम कटवा देंगे, या फिर से नज़र आने लगेंगे ये नन्हे मुन्ने 14 साल से कम उम्र के मज़दूर. बूढ़ी-माँ भी अब रूखा सूखा खा कर अपनी बची खुची ज़िंदगी गुज़ार लेगी.




सरकार ऐसे खूनियों का कुछ करेगी भी की नहीं हम मे से किसी को नहीं पता . ये घटना भी एक 'खबर' बनकर दो चार दिनों तक टीवी पर छाई रहेगी और फिर गुमनाम हो जाएगी.

पहले से ही ग़रीब, अपने बच्चों को खोने के बाद अब तो और भी ग़रीब हो गये हैं.


(तस्वीरें -साभार गूगल )

13 comments:

  1. नमस्कार आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (21 -07-2013) के चर्चा मंच -1313 पर लिंक की गई है कृपया पधारें. सूचनार्थ

    ReplyDelete
  2. हर दुर्घटना केलिए भगवान को दोष देना या उनको बुलाना मनुष्य की सबसे बढ़ी कमजोरी है. छपरा में जो कुछ हुआ है सब राजनेता और कर्मचारियों की धन लोलुपता ,लापरवाही,अकर्मणता के कारण हुआ है.इसमें भगवन का कुछ लेना देना नहीं है. जनता को उन सबका मुखौटा उतर देना चाहिए. वे करोडो हजम कर रहे है और दो लाख मुआबजा देकर मुह बंद करना चाहते हैं.
    latest post क्या अर्पण करूँ !
    latest post सुख -दुःख

    ReplyDelete
    Replies
    1. ji bilkul sahi kaha aapne.ye neta samajhte hain jinhe ek waqt ka khana nahin milta hai ,kuch do char hazar rupaye mil jayenge to chup ho jayenge.aisa hota bhi hai, yahi to dukh ki baat hai.

      Delete
  3. Replies
    1. शुक्रिया रूपचन्द्र जी

      Delete
  4. खाने का लालच देकर शिक्षित करने की योजना है की इस योजना की आड़ में अपनी जेबें ठूँसने का? और कितना नीचे गिरेगा इंसान?MERE DIL KI BHI BAT KAH DI AAPNE .....

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thank you Dr.Nisha Maharana. abhi abhi facebook pe padha ki kisine ek ladki ke chehre par garam ghee fenk diya...pataa nahin kya ho gaya hai hamare samaaj ko?

      Delete
  5. बहुत संवेदनशील प्रस्तुति ...
    काश! गरीबों को इंसान समझ पाते स्वार्थी लोग!

    ReplyDelete
    Replies
    1. ji Kavita ji... tippani ke liye bohat bohat abhaar.

      Delete

SOME OF MY FAVOURITE POSTS

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...